राज्यपाल

डॉ. सी पी ठाकुर और जीतन राम मांझी बनेंगे राज्यपाल

राजनीति

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने मंत्रिमंडल में जल्द ही फेरबदल करेंगे। जनता दल यूनाइटेड के दो नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा। जदयू को एक कैबिनेट और एक राज्यमंत्री का पद मिलेगा। इसके अलावा नरेन्द्र मोदी सरकार ने 7 राज्यपाल की सूची तैयार कर ली है।

इस सूची में बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. सी पी ठाकुर का भी नाम है। हालां कि जो सूची बनी है उसमें केवल भाजपा नेताओं के नाम हैं। लेकिन इस बात की चर्चा है कि बिहार के ‘हम’ नेता जीतन राम मांझी को राज्यपाल बनाया जा सकता है।

डॉ. सी पी ठाकुर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं और बिहार से राज्यसभा के सदस्य हैं। वे अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केन्द्रीय मंत्री थे। उनकी ख्याति देश के एक चर्चित चिकित्सक के रूप में रही है। कालाजार में शोध के लिए उनको इंटरनेशनल अवार्ड मिल चुका है। उन्हें पद्णश्री का सम्मान मिल चुका है। पहले वे कांग्रेस में थे।




राज्यपाल

1984 में पहली बार वे कांग्रेस के टिकट पर पटना से लोकसभा के लिए चुने गये। इसके बाद वे भाजपा में आ गये। डॉ. सी पी ठाकुर को को नरेन्द्र मोदी का कट्टर समर्थक माना जाता है। उन्होंने ने ही सबसे पहले नरेन्द्र मोदी को चुनावी चेहरा बनाने की बात कही थी।




हालांकि तब उनकी बात को बहुत ज्यादा महत्व नहीं दिया गया। 2014 में लोकसभी चुनाव जीतने के बाद इस बात की बहुत चर्चा थी कि उन्हें केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किया जाएगा। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। नरेन्द्र मोदी ने अधिक उम्र का हवाला देकर उनके नाम पर विचार नहीं किया। लेकिन उनके योगदान को ध्यान में रख कर केन्द्रीय नेतृत्व ने यह भरोसा दिया था कि भविष्य में कोई सम्मानजनक पद जरूर दिया जाएगा।

करीब 3 साल के बाद वो वक्त अब नजदीक आ गया है। डॉ. सीपी ठाकुर को किस राज्य का राज्यपाल बनाया जाएगा यह अभी साफ नहीं हुआ है। कई राज्यों में राज्यपाल का पद अभी प्रभार में चल रहा है। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी बिहार का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं। इसी तरह गुजरात के राज्यपाल ओमप्रकाश कोहली मध्यप्रदेश का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं।




महाराष्ट्र के राज्यपाल सी विद्यासागर राव तमिलनाडु का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं। आंध्रप्रदेश के राज्यपाल इएसएल नरसिम्हन तेलंगाना के राज्यपाल का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं।

असम के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित मेघालय के राज्यपाल का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं। नगालैंड के राज्यपाल पद्मनाभ आचार्य अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल का अतिरिक्त दायित्व संभाल रहे हैं । यानी राज्यपाल पद के लिए अभी कई रिक्तियां हैं।




बिहार से जीतन राम मांझी को भी राज्यपाल बनाये जाने की चर्चा है। जब भाजपा के साथ नीतीश कुमार ने बिहार में सरकार बनाय़ी थी उस समय जीतन राम मांझी की मांग पूरी नहीं का जा सकी थी। जीतन राम मांझी मंत्री नहीं बनना चाहते थे और उनकी पार्टी में कोई दूसरा विधायक भी नहीं था। उनकी नाराजगी को दूर करने के लिए भविष्य में सम्मानजनक पद देने का वायदा किया गया था।




राज्यपाल







Leave a Reply

Your email address will not be published.