मोदी ने बदली खादी की किस्मत, डूबे कारोबार को बनाया 50,000 करोड़ का ब्रांड

ट्रेंडिंग

अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया के मुताबिक, ब्रांड एक्सपर्ट हरीश बिजूर बताते हैं कि पहले खादी केवल राजनीतिक वर्ग की पसंद थी, मगर आम उपभोक्ता भी आजकल प्राकृतिक उत्पादों की ओर ज्यादा तवज्जो दे रहे हैं जिससे ये उद्योग विकास की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.