“सबकी कोशिशों से हम फिर खड़े होंगे”- मुखिया रितू जायसवाल ने बाढ़ में उजड़े लोगों के लिए मांगी मदद

खबरें बिहार की

बिहार में जनप्रतिनिधियों के लिए मिसाल बन चुकी सीतामढ़ी की सिंघवाहिनी पंचायत की मुखिया रितू जायसवाल ने एक बार फिर अपने गांव के लोगों की मदद के लिए अपील की है। मुखिया रितू जायसवाल ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है—बाढ़ से पीड़ित हमारे गांव को अब आपकी मदद की ज़रूरत है।

इस विनाशकारी बाढ़ ने हम सिंहवाहिनी पंचायत के लोगों के जीवन में दुःख, पीड़ा, हताशा का एक छाप छोड़ दिया है। हम लोग पिछले 1 साल में काफी तेज़ी से बढे थे जिसकी जानकारी आप लोगों तक हर समय पहुंचाती रहती थी। कितनी खुश थी की पहली बार हमारे यहां पक्की सड़कें आ गई हैं। बिजली आ गई है।

लोगों के चेहरे पर एक रौनक दिखने लगी थी, पर शायद तक़दीर को कुछ और ही मंज़ूर था। सड़क निर्माण का कार्य अंतिम चरण पर ही था कि अधवारा और मरहा नदी के पानी का तेज़ बहाव और ऊपर से वर्षा के पानी ने मिलजुल कर सब पहले से भी बत्तर कर दिया।




मुखिया रितू जायसवाल




पहले हिचकोले खाते ही सही, हम सब जा तो पाते थे उन सड़कों पर। अब तो पैदल जाने में 20 से 30 फुट के पानी से भरे गड्ढे मिल रहे बीच सड़क पर। सिर्फ सड़क ही नहीं, एक नई और सब से गंभीर चुनौती अब ये आ गई है कि अत्यंत ही गरीब परिवार के तक़रीबन 50 घर पूर्णतः इस बाढ़ में बह गए, और 100 के करीब आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए। लोग सड़कों पर, तो कहीं दूसरों के घरों में शरण लिए हुए हैं।

स्थिर जल जमाव से बिमारी फैलने की समस्या अलग से। नुकसान का मुआयना करने जब इस कीचड़ युक्त पानी को पार कर के पहुंची तो सड़क का और लोगों के घरों का हाल देख आँखों से आंसू थमने का नाम न ले रहे थे।




मुखिया रितू जायसवाल




लोगों को दो वक्त की रोटी तक नहीं नसीब हो पा रही। खाने की राहत सामग्री को लेने केलिए लूट मची है। पंचायत के 3 गाँव – बड़ी सिंहवाहिनी, करहरवा और खुटहां की स्थिति एकदम भयावह है। पंचायत की मुखिया होने के नाते रिपोर्ट तैयार कर रही हूँ, सरकार को भेजने केलिए, और अपने व्यक्तिगत पैसे में से जो बन पर रहा है, हालात ठीक करने केलिए योगदान दे रही हूँ।

लोग भी बांस का पुल बनाने केलिए अपनी बसवारी से बांस भी दान में दे रहे, लोग श्रम दान भी कर रहे। पर इस विनाश की घड़ी में ये सब समुंदर में एक लोटे पानी के समान है। आज तक हमनें पंचायत के लिए प्रत्यक्ष रूप से कोई आर्थिक मदद स्वीकार नहीं किया।




जिन लोगों ने साथ देने केलिए हाथ बढ़ाया उन्हें मैंने यही कहा की आप समय निकाल कर खुद आएं और अपने हाथों से सहयोग दें लोगों के बीच, इसी बहाने आप पंचायत भी देख लेंगें। पर अब तो वो भी संभव नहीं है। आने के रास्ते ही कट चुके हैं। और मदद केलिए कई फ़ोन आ रहे बाहर के लोगों के जो किसी भी कीमत पर यहाँ आ नहीं सकते।

तो अब आप सब के सुझाव पर हमनें सिंहवाहिनी पंचायत के पुनर्स्थापना केलिए एक ऑनलाइन मदद का कैम्पेन चलाने का फैसला लिया है। आप पैसे से, अनाज से, फ़ूड पैकेट्स से, कपड़ों से या अन्य ज़रूरत के सामानों से मदद कर सकते हैं।




संग्रह केंद्र:
1: प्रज्वलित युवा: 2 ए / 2 9, इंद्रपुरी, पटलीपुत्र कॉलोनी, पटना 800024: +91 8083137213

2. गाँव – करहरवा, ग्राम पंचायत राज सिंहवाहिनी, मुखिया रितू जायसवाल ने एक बार फिर अपने गांव के लोगों की मदद के लिए अपील कीसोनबरसा, सीतामढ़ी 843317, बिहार +91 8709627094

पंचायत आने का रास्ता
पटना – मुजफ्फरपुर – NH77 रुन्नी सैदपुर – भुतही (तक़रीबन 50 km) – उसके थोड़ा आगे फतेहपुर से दाहिने उतरेंगे हाईवे से और लक्षिमपुर, मधेसरा होते हुए जानकी नगर में सिंहवाहिनी पंचायत में घुसेंगे जहाँ के बाद सड़क मार्ग बाधित है। वहां हम लोग रिसीव कर लेंगे। आप गैर सरकारी संगठन ‘Ap Deepo bhava Foundation’ के नाम पर धन दान कर सकते हैं जो की हमारी अपनी संस्था है और यहाँ आर्थिक रूप से कमज़ोर परिवार के बच्चों केलिए आउट ऑफ स्कूल शिक्षा पर कार्य करत है।

Acc Details
Name: Ap Deepo bhava Foundation
Bank : Axis Bank
Ac.No: 917020050022554
IFSC : UTIB0000142









आपके पास पेटीएम से भी पैसे भेजने का विकल्प है। नंबर है 8709627094. आप सीधे मुझसे संपर्क कर सकते हैं किसी अन्य जानकारी केलिए या हमारा दुःख बांटने के लिए 8709627094 या 7979003433 पर।

हमारी इस विनती को स्वीकार कीजिये और कृपया आगे आएं। आपका सहयोग हमारे हिम्मत को बनाये रखेगा। आप दुआ से, पैसे से, दवा से, अनाज से, कपड़ों से, त्रिपाल से, रोशनी के साधन से या जीने केलिए अन्य उपयोगी वस्तुओं से हमारी मदद कर सकते हैं।




अपने साथ साथ अपने परिचितों से भी मदद करने की अपील करियेगा। नवनिर्मित सड़क जो अब ख़त्म हो गई, को देख कर मेरे खिले हुए चेहरे की तस्वीर के साथ तबाही की कुछ तस्वीरें भी आप से साझा कर रही हूँ। स्थिति इससे भी भयावह है। ये तो वो हैं जो आँखों से दिख रहे हैं, जिनकी हम तस्वीर ले सकते हैं।

2 मोहल्ले ऐसे हैं जो अब बस समतल ज़मीन बन कर रह गए – पानी से भरे हुए। बाढ़ का पानी सब बहा ले गया । लोगों के अनाज, उनके आशियाने सब। सड़े हुए अनाज को खाना कुछ परिवार की मज़बूरी बन गई है।
आपके सहयोग के इंतज़ार में।

अपने ग्राम पंचायत राज सिंहवाहिनी, सोनबरसा, सीतामढ़ी, बिहार की एक साधारण सी मुखिया रितु जयसवाल। रितु के इस प्रयास की जम कर प्रशंसा हो रही है। लोग उनकी मदद को आगे आ रहे हैं।























Leave a Reply

Your email address will not be published.