मीसा भारती

दर्ज होगा क्रिमिनल केस, मीसा भारती और उनके पति से IT फिर करेगा पूछताछ

खबरें बिहार की

अभी-अभी राजद सुप्रीमो लालू यादव की बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती की मुश्किलें एक बार फिर बाढने वाली है। आय से अधिक मामले को लेकर आयकर विभाग ने मीसा भारती और उनके पति शैलेश को एक बार फिर सम्मन बेजा है।

जानकारी के मुतिबाक आयकर विभाग मीसा भारती और उनके पति से पूछताछ करेगा। IT ने दोनों को सोमवार को दिल्ली स्थिति आयकर विभाग के ऑफिस में बुलाया है। जानकारी के मुताबिक आयकर विभाग इस मामले में क्रिमनल केस दर्ज करने की भी सोच रहा है।

मीसा भारती और शैलेश पर अगर आपराधिक साजिश रचने को लेकर क्रिमनल केस दर्ज होता है तो उनकी मुश्किलें काफी बढ सकती है। आयकर विभाग को जांच में कुछ दस्तवेज मिले हैं जिसके बारे में मीसा और उनके पति से पूछताछ होगी। दोनों का बयान फिर से दर्ज हो सकता है। मीसा भारती और उनके पति शैलेश को पहले भी सम्मन जारी हो चुका है।




मीसा भारती

बता दें कि आयकर विभाग ने 14 और 19 जून को कार्रवाई करते हुए बेनामी संपत्ति के अलग-अलग मामलों में लालू प्रसाद यादव की पत्‍‌नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, बेटे और बेटियों की बेनामी संपत्ति सीज कर दी थी।




जिन संपत्तियों की अटैच किया गया है उनमें दिल्ली के बिजवासन स्थित मीसा भारती का फार्म भी शामिल है। मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम दर्ज इस फार्म की कीमत पेपर पर 1.41 करोड़ रुपये है। जबकि आईटी डिपार्टमेंट के अनुमान से इसकी बाजार कीमत 50 करोड़ रुपये है।
लालू प्रसाद यादव तथा उनके बच्चों बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव तथा राज्यसभा सांसद मीसा भारती से संबंधित कथित बेनामी संपत्ति सौदे को लेकर आयकर विभाग ने 16 मई को दिल्ली तथा उसके आसपास कथित तौर पर 22 जगहों पर छापेमारी की थी।

मीसा भारती




आयकर विभाग ने राजद सुप्रीमो के अलावा, पार्टी के सांसद पीसी गुप्ता तथा दिल्ली, हरियाणा के गुरुग्राम तथा रेवाड़ी में कई कारोबारियों व रियल एस्टेट के एजेंटों के परिसरों पर भी छापेमारी की थी। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया था कि जमीन के भ्रष्ट सौदों में लालू प्रसाद के तीनों बच्चे तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव तथा मीसा भारती शामिल हैं।

मीसा भारती







Leave a Reply

Your email address will not be published.