बिहार में अब बिना रजिस्ट्रेशन वाले कोचिंग संस्‍थानों पर ताला लगने वाला है

खबरें बिहार की

शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने सदन में एक सवाल के जवाब में कहा कि निबंधन का समय खत्म हो चुका है। अब बिना निबंधन वाले संस्थानों को बंद किया जायेगा।बिहार में अब बिना रजिस्ट्रेशन वाले कोचिंग संस्‍थानों पर ताला लगने वाला है। विधान परिषद में शुक्रवार को शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि पटना में बिना निबंधन चल रहे कोचिंग संस्थानों को बंद किया जाएगा। निबंधन का समय नहीं बढ़ाया जाएगा।

अशोक चौधरी ने कांग्रेस के दिलीप कुमार चौधरी के एक प्रश्न के जवाब में कहा कि 31 मार्च 2017 तक निबंधन कराना था। अवधि समाप्त हो गई है। कोचिंग संस्थानों पर नियंत्रण के लिए 2010 में एक्ट बना था, किन्तु सरकार ने गंभीरता से काम नहीं किया।
उन्होंने कहा कि निबंधन के लिए 978 कोचिंग संस्थानों ने आवेदन दिया जिसमें 233 का निबंधन हुआ है। उन्होंने प्रो. संजय कुमार सिंह के एक प्रश्न के जवाब में कहा कि माध्यमिक व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में नियोजन की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि नियोजन में परेशानी हो रही है।
उन्होंने कहा कि संस्कृत शिक्षकों का नियोजन होगा। इसमें कोई भेदभाव नहीं होगा। माध्यमिक में हिन्दी विषय के 2000 व उच्च माध्यमिक में 2284 , अंग्रेजी के 2415 व संस्कृत के 1202 पद रिक्त हैं। उन्होंने भाजपा के रजनीश कुमार के एक प्रश्न के जवाब में कहा कि केंद्र से स्वीकृत राशि नहीं मिलने से सभी विद्यालयों के लिए निर्धारित मानक को पूरा नहीं किया जा सका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.