बाढ़ में झुक गया दोमंजिला मकान, भगवान बनकर पहुंचे जवान, बाहर निकाल बचाई जान

खबरें बिहार की

कटिहार के आजमनगर में हालांकि बाढ़ का पानी अब धीरे-धीरे कम होता जा रहा है। लेकिन इस बाढ़ में आजमनगर पूरी तरह से बर्बाद हो गया है। आजमनगर में बाढ़ का आलम यह रहा है चार दिनों तक आजमनगर प्रखंड का संपर्क पूरी तरह टूटा रहा।

सड़क और ट्रेन सेवा तो ठप हो गई, संचार सेवा भी तहस-नहस हो गई। शुक्रवार की सुबह पानी घटने पर जिला कल्याण पदाधिकारी पवन मिश्रा आजमनगर गये तो वहां का नजारा देखकर दंग रह गये। सैकंडों लोग जहां-तहां फंसे थे और भूखे प्यासे थे।

हालांकि शुक्रवार के दोपहर से अपने साथ ले गये राहत सामाग्री के द्वारा दो दर्जन से अधिक राहत शिविर तुरंत चलाया। फिलहाल यहां 38 राहत शिविर चल रहे है। माल मवेशी के साथ दो मंजिलें और एक मंजिलें छत के ऊपर आश्रय लिये थे। आजमनगर के मरही में एक दो मंजिला मकान बाढ़ के तेज पानी के कारण झुक गया।









यह मकान कभी भी ध्वस्त हो सकता है। इसपर फंसे लोगों को सेना के जवानों ने तीन दिन के बाद निकाला। समीप के ही एक मकान पर लोग फंसे हुए थे जिसे सेना और एनडीआरएफ की टीम ने रस्सी के सहारे निकाला।

आजमनगर में अरिहाना, मरही गांव में कम से कम 10 ऐसे दो मंजिलें और एक मंजिलें मकान ऐसे थे जिसमें 100 से अधिक लोग फंसे थे। हालांकि प्रशासन ने पिछले 24 घंटों में राहत शिविर चलाते हुए बाढ़ पीड़ितों को भोजन और अन्य सामान उपलब्ध कराना शुरू कर दिया है।









इसे लेकर आजमनगर प्रखंड कार्यालय में शनिवार की दोपहर सैकड़ों की तादात में पहुंचे बाढ़ पीड़ितों ने प्रखंड कार्यालय में तोड़फोड़ करते हुए हंगामा किया। आक्रोशित भीड़ को शांत करने के लिए पुलिस ने लाठी भी चमकायी। तब जाकर भीड़ को काबू में किया गया।

जबकि बाढ़ आने के बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी पूरण साह थाना प्रभारी शंकर शरण दास अपने दल बल संग बाढ़ पीड़ितों की सुरक्षा व उनके मदद में लगे हुए है। जिला कल्याण पदाधिकारी ने बहुत हद तक राहत व्यवस्था को पटरी पर लाया है। लेकिन असंतोष परवान पर है।




जिसके कारण बाढ़ पीड़ितों का प्रखंड पहुंच तोड़फोड़ की घटना को अंजाम दिया। जिसे शांत करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। प्रत्यक्षदर्शी सूत्रों के मुताबिक प्रखंड व प्रखंड विकास पदाधिकारी की सुरक्षा की दृष्टिकोण से बाढ़ पीड़ितों के आक्रोश को शांत करने के लिए लाठी चमकायी गई।









Leave a Reply

Your email address will not be published.