इस परिवार के सभी सदस्य हैं पायलट , 100सालों चल रही परंपरा

राष्ट्रीय खबरें

सबसे रोमांचक कामों में से एक है पायलट होना। दुनिया घूमना, आसमान के खूबसूरत नजारे देखना, हर दिन कुछ नया करना। भारत में एक ऐसा परिवार भी है जो 100 सालों से इस प्रोफेशन में है।

भसीन परिवार, जिसके चारों सदस्‍य एयरलान में पायलट हैं। इस प्रोफेशन से उनका नाता 1954 से है जब कैप्‍टन जयदेव भसीन ने इंडियन एयरलांइस में जाने का फैसला किया। वह भारत के उन पहले सात पायलटों में शामिल थे जो आगे चलकर कमांडर बने।

उनके बेटे रोहित ने भी अपने पिता की तरह इसी को अपना प्रोफेशन बनाया। इसके बाद रोहित की शादी निवेदिता जैन से हुई जो खुद भी एक पायलट थीं। 26 साल की उम्र में निवेदिता दुनिया की सबसे कम उम्र की जेट कैप्‍टन बनने वाली महिला बन चुकी थीं।









निवेदिता जब इंडियन एयरलाइंस की पायलट बनीं तब वह महज़ 20 साल की थीं। 33 बरस की उम्र में वह दुनिया के सबसे बड़े हवाई जहाज एयरबस – 300 की कमांडर बन गईं थीं। ऐसे होनहार माता-पिता के बच्‍चे भला कहां पीछे रहने वाले थे। आज उनका बेटा रोहन बतौर कमांडर बोइंग 777 चलाता है और एयर इंडिया में उसे 10 साल हो चुके हैं। वहीं उनकी 26 साल की बेटी निहारिका इंडिगो में पायलट है।

निवेदिता और रोहन ने कभी एक साथ जहाज नहीं उड़ाया है लेकिन पिता रोहित अपने बेटे के साथ 10 से भी ज्‍यादा फ्लाइट उड़ा चुके हैं। रोहित और निवेदिता भी दूसरे पेरेंट्स की ही तरह अपने बच्‍चों को ज्‍यादा सावधानी बरतने की सलाह देते हैं।












Leave a Reply

Your email address will not be published.