दोबारा होगी बिहार बोर्ड इंटर के 100 टॉप करने वाले छात्रों की कॉपियों की जांच

खबरें बिहार की

बिहार बोर्ड इंटर के नतीजे 30 मई के पहले या सात जून तक आयेगा, इसको लेकर बुधवार को निर्णय लिया जाएगा। यह हाल तब है जबकि बिहार बोर्ड मैट्रिक और इंटर की परीक्षा फरवरी में ही समाप्त हो गई थी।

बिहार बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि अभी रिजल्ट की तिथि निर्धारित नहीं की गई है। इंटर रिजल्ट जून के पहले सप्ताह में भी जारी हो सकता है। सात जून के पहले रिजल्ट निकाल दिया जायेगा। इसको लेकर हम एक-दो दिनों में फैसला ले लेंगे। बिहार बोर्ड सूत्रों की मानें तो 22 से 25 मई के बीच इंटर रिजल्ट जारी होने की संभावना थी।

लेकिन अब सात जून के पहले रिजल्ट घोषित किये जाने की बातें हो रही हैं। आईसीएसई बोर्ड के बाद सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट अगले सप्ताह में घोषित करने जा रहा है। लेकिन बिहार बोर्ड ने इंटर रिजल्ट निकलने की तिथि अब तक निर्धारित नहीं की है।

सीबीएसई पहले 12वीं का रिजल्ट घोषित करने की तैयारी कर रहा है। 12वीं का रिजल्ट 24 या 25 मई को आने की संभावना है। 2017 में 28 मई को सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट जारी हुआ था। सीबीएसई सूत्रों की मानें तो इस बार पिछले साल की अपेक्षा पहले रिजल्ट घोषित की जायेगी। 10वीं का 29 या 30 मई को रिजल्ट आने की संभावना है।

इंजीनियरिंग छात्रों पर सबसे ज्यादा असर

इंटर का रिजल्ट जारी करने में देरी होने का सबसे ज्यादा असर इंजीनियरिंग में प्रवेश लेने वाले छात्रों को होगा। 20 मई को जेईई एडवांस है। वहीं 30 मई को सीबीएसई जेईई मेन का ऑल इंडिया रैंक जारी करेगा। ऑल इंडिया रैंक जारी करने के पहले छात्रों को प्लस टू का रिजल्ट सीबीएसई को भेजना होता है।

अगर बिहार बोर्ड जून में इंटर रिजल्ट देता है तो बिहार बोर्ड के छात्रों के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में नामांकन लेना मुश्किल हो सकता है। इसके अलावा दिल्ली विवि के साथ देश के सभी बड़े विवि में जून के पहले सप्ताह में नामांकन की तिथि निकल जाती है।


बिहार बोर्ड इस बार इंटर रिजल्ट को लेकर ऐहतियात बरत रहा है। मेरिट लिस्ट में किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो, इसलिए बोर्ड इस बार टॉप-100 छात्रों की सारे कागजातों की जांच करने की तैयारी में जुटा है। बोर्ड सूत्रों की मानें तो मेरिट लिस्ट तैयार करने के पहले टॉप-100 में शामिल छात्रों की उत्तर पुस्तिका दुबारा जांची जाएगी।

इसके अलावा सारे छात्रों के एडमिट कार्ड, उनके रजिस्ट्रेशन, परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया भी बोर्ड देखेगा। इसके अलावा कॉलेज व स्कूल के इंफ्रास्ट्रक्चर को देखा जायेगा, जहां से छात्र ने पढ़ाई की है।


ज्ञात हो कि इंटर 2017 के टॉपर गणेश कुमार ने गलत तरीके से इंटर की परीक्षा दी और आर्ट्स टॉपर बन गया। बाद में जांच के बाद पता चला कि गणेश कुमार ने रजिस्ट्रेशन करवाये बिना ही परीक्षा फॉर्म भर दिया था। कॉलेज की जांच हुई तो पता चला कि स्कूल में संगीत की पढ़ाई भी नहीं होती है और गणेश कुमार ने संगीत में प्रायोगिक परीक्षा भी दे दी। इसी को देखते हुए बोर्ड इस बार मेरिट लिस्ट में शामिल सभी छात्रों की पूरी जांच करेगा। 12वीं की परीक्षा 22 से 28 फरवरी तक ली गई थी।

टॉप-100 में शामिल सभी छात्रों के प्रायोगिक विषय की जानकारी ली जायेगी। छात्रों ने जिन विषयों को प्रायोगिक के लिए चुना है, उसके बारे में छात्रों के ज्ञान का टेस्ट लिया जायेगा। इसके अलावा प्रायोगिक परीक्षा के दौरान छात्रों को मिले अंक की भी जांच एक्सपर्ट द्वारा करायी जायेगी।

‘ एडमिट कार्ड, उनके रजिस्ट्रेशन, परीक्षा फॉर्म भरने की प्रक्रिया भी बोर्ड देखेगा।

‘ जिन कॉलेजों व स्कूलों से छात्रों ने पढ़ाई की है वहां का इंफ्रास्ट्रक्चर भी देखा जायेगा।

” रिजल्ट की तैयारी चल रही है। 2017 में 28 मई को रिजल्ट घोषित किया गया था। लेकिन इस बार उससे पहले रिजल्ट घोषित होगा। पहले 12वीं का रिजल्ट आयेगा, उसके बाद ही 10वीं रिजल्ट की घोषणा होगी। ”

– रमा शर्मा, मीडिया प्रभारी, सीबीएसई।

बिहार बोर्ड
10वीं 22-28 फरवरी
12वीं 7 व 17 फरवरी
रिजल्ट नहीं

यूपी बोर्ड
10वीं 6-22 फरवरी
12वीं 6-12 मार्च
रिजल्ट 9 मई को

एमपी बोर्ड
10वीं 5-31 मार्च
रिजल्ट 14 मई को

छत्तीसगढ़ बोर्ड
परीक्षा 5 से 22 मार्च
रिजल्ट 7 मई को

आईसीएसई
10वीं परीक्षा 8 फरवरी-29 मार्च
12वीं 8 फरवरी-10 अप्रैल
रिजल्ट 14 मई को

Leave a Reply

Your email address will not be published.