इतिहास गवाह है जब भी भारत और पाकिस्तान की सेनाएं युद्ध के मैदान पर आमने-सामने आई हैं, तो भारतीय सेना ने पाक सेना को हमेशा धूल चटाई है. ऐसा ही कुछ आज से 20 साल पहले 26 जुलाई 1999 में कारगिल युद्ध में हुआ था, जब भारतीय रणबांकुरों ने घुसपैठियों के वेश में आए पाकिस्तानी सैनिकों को ढेर करते हुए तिरंगा लहरा दिया था.

वहीं, कारगिल की इस लड़ाई में सेना की बहादुरी के किस्से को बड़े पर्दे में उतारने में बॉलीवुड काफी हद तक सफल साबित हुई. बॉलीवुड में वैसे तो कारगिल युद्ध पर कई फिल्में बनीं, लेकिन उनमें से कुछ फिल्में आज भी लोगों के आंखों को नम कर देती हैं. तो आइए, कारगिल विजय दिवस के अवसर पर उन्हीं 5 फिल्मों के बारे में बताते हैं…

एलओसी कारगिल
साल 2003 में करगिल युद्ध पर पहली बार जो फिल्म बनी थी, उसका नाम था ‘एलओसी कारगिल’. यह फिल्म 12 दिसंबर 2003 में सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी. इस फिल्म के निर्देशक जेपी दत्ता थे. इस फिल्म में अजय देवगन, संजय दत्त, अभिषेक बच्चन, करीना कपूर, सैफ अली खान और सुनील शेट्टी मुख्य भूमिका में थे.

टैंगो चार्ली
‘एलओसी कारगिल’ के बाद जिस फिल्म की सबसे ज्यादा चर्चा हुई वह थी अजय देवगन, बॉबी देओल और संजय दत्त की फिल्म ‘टैंगो चार्ली’, जो 25 मार्च 2005 में सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी. इस फिल्म के निर्देशक मणी शंकर थे.

लक्ष्य
वहीं, ‘एलओसी कारगिल’ और ‘टैंगो चार्ली’ के अलावा भी एक और फिल्म कारगिल युद्ध पर बनी थी, जिसका नाम था ‘लक्ष्य’. इस फिल्म में ऋतिक रोशन, प्रीति जिंटा, अमिताभ बच्चन, अमरीश पुरी और ओम पुरी मुख्य भूमिकाओं में थे. यह फिल्म 18 जून 2004 में रिलीज हुई थी. इस फिल्म को बॉलीवुड एक्टर फरहान अख्तर ने डायरेक्ट किया था.

स्टंप्ड
‘एलओसी कारगिल’ के अलावा 2003 में एक और फिल्म ‘स्टंप्ड’ कारगिल युद्ध पर बनी थी. ‘स्टंप्ड’ में 1999 में हुए क्रिकेट वर्ल्ड कप और करगिल युद्ध दोनों के बीच फंसी जनता की कहानी को दिखाया गया है.

धूप
करगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों के जीवन संघर्षों पर बनी फिल्म ‘धूप’ को भी दर्शकों का भरपुर प्यार मिला था. इस फिल्म में ओम पुरी और गुल पनाग मुख्य भूमिकाओं में थे. यह फिल्म भी 2003 में सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी.

Source – Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here