एक मंदिर जहाँ लगातार बढ़ रहा है शिव के नंदी का आकार, हटाने पड़े खम्भे

आस्था

भारत हमेशा से एक धार्मिक और प्राकृति से जुड़ा रहा है जिसकी चर्चा आज भी पुरे विश्व में होती है। भारत के धार्मिक स्थलों का रहस्य लोगों को सोचने पर मजबूर कर देता है। आज हम लोग बात करेंगे आंध्रप्रदेश के एक ऐसे मंदिर की जहां के रहस्य ने विज्ञान को

आंध्रप्रदेश में स्थित यागंती उमा महेश्वर मंदिर जो कि कुरनूल जिले में स्थित और यह मंदिर को निर्माण करने वाले ऋषि अगस्त्य है इन्होने भगवान शिव की तपस्या की उनके आशीर्वाद से यह मंदिर का निर्माण हुआ।

कहा जाता है की इस मंदिर के निरम के पूर्व ऋषि अगस्त्य इस स्थान पर पहले भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर बनाना चाहते थे। मगर जब मूर्ति का स्थापना हो रहा था उसी समय मूर्ति का पैर के अंगूठा टूट गया और स्थापना रोक दी गई।

मंदिर में विरजमान नंदी का भी एक रहस्य है जिसे देखने लोग दूर दूर से आते है नंदी के मुख से लगातार पानी गिरते रहता है और आज तक कोई भी पता नहीं कर पाया की यह पानी कहा से आता है।

जहां शिव जी विराजमान होते है वहां नंदी भी विराजमान होता है ये हम सब ने हर जगह देखा है मगर इस मंदिर मर विराजमान नंदी लगातार बढे दिख रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.