उत्तर बिहार में तेज आंधी-बारिश, आम लीची के साथ ही रबी की फसल को भारी नुकसान

खबरें बिहार की

उत्तर बिहार के किसानों पर फिर मौसम की मार पड़ी है। शुक्रवार की देर रात व शनिवार को दरभंगा, मधुबनी समेत उत्तर बिहार के कई जिलों में आंधी के साथ तेज बारिश हो रही है। इससे रबी फसलों को फिर नुकसान पहुंचा है। गेहूं, सरसों व आलू को काफी क्षति पहुंची है। आम व लीची के मंजरों को भी नुकसान हुआ है। मुजफ्फरपुर जिले के कांटी, कटरा, बोचहां, पारू, गायघाट, सरैया समेत कुछ अन्य प्रखंडों में काफी नुकसान पहुंचा है। गेहूं की अधिकतर फसलों में दाना निकल गया है। आंधी से फसल खेत में सो गई है। सरसों भी कटनी के लायक नहीं बचा है। आलू भी बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है।

फसल क्षति का जायजा लेने शुक्रवार को जिला कृषि अधिकारी डॉ केके वर्मा साहेबगंज और मोतीपुर पहुंचे। इस दौरन उन्होंने प्रखंड कृषि अधिकारियों को फसल क्षति की रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया है। बीते 25 फरवरी के आंधी-पानी व ओलावृष्टि में जिले की 7633 हेक्टेयर में 33 फीसद से अधिक नुकसान पहुंचा है।

बेमौसम बारिश व आंधी से प्रखंड किसानों के खेत में लगी फसल को भारी नुकसान हुआ है। धनौर, सोनपुर, चंगेल, यजुआर, बर्री , तेहवारा , शिवदासपुर ,पहसौल ,बेलपकौना ,लखनपुर समेत अन्य पंचायतों में आंधी से गेहूं की फसल को नुकसान हुआ है। फसल क्षति का आकलन कृषि समन्वयक कर रहे हैं।

पारू में तेज आंधी और बारिश से प्रखंड के सैकड़ों एकड़ खेत मे लगे गेहूं और तोरी की फसल बर्बाद हो गई। रबी मौसम में जिस तरह किसानों ने तैयारी की थी उससे लगता था कि बंपर पैदावार होगा। लेकिन ऐन वक्त में आंधी-पानी ने फसलों को चौपट कर दिया।


आंधी-बारिश से फसलों को काफी नुकसान हुआ है। क्षेत्र के लोमा,कमरथू,बैरुआ व बोआरीडीह समेत अधिकांश पंचायतों में लगे गेहूं, मक्का, तेलहन, दलहन, आम, लीची, केला व सहजन को नुकसान पहुंचा है। हवा के झोंकों से आम-लीची के मंजर झड़ गये हैं। किसान हताश हैं।
बोचहां में भी आंधी पानी से फसलों को काफी नुकसान हुआ है। अधिकांश गेहूं की फसल बर्बाद हो गई है। आम व लीची की फसलों को भी नुकसान पहुंचा है। किसानों ने नें मांग की है कि जिला प्रशासन जल्द नुकसान का आकलन कर किसानों को मुआवजा दे। प्राकृतिक आपदा से किसानों को सीधे आर्थिक नुकसान हो रहा है।

बारिश ने मीनापुर व पानापुर क्षेत्र के किसानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। बरसात के कारण सैकडों एकड़ में लगी गेहूं की फसल खेतों में गिर गई है। टमाटर समेत सब्जियों को भी काफी नुकसान हुआ है। राजद प्रवक्ता सच्चिदानंद कुशवाहा व विक्रान्त यादव ने डीएम को ज्ञापन दिया है। पानापुर के किसान संत कुमार राय, रामेश्वर राय,रमाकांत राय,गोपाल कुमार राय,कुमार नलिनी रंजन समेत कई किसानों ने बताया कि फसल गिरने से 60 से 70 प्रतिशत तक उत्पादन में कमी हो जाएगी। वहीं कांटी में भी बरसात से किसानों को भारी क्षति हुई है। पूर्व मंत्री अजीत कुमार, किसान नेता दीपनारायण सिंह समेत अन्य किसानों ने बताया कि बरसात से किसानों की आधी से अधिक फसल बर्बाद हो गई है। उन्होंने फसल क्षति का सर्वे कराकर जल्द मुआवजा दिलाने की मांग डीएम से की है।

Source – Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *